Bhagavad Gita: Chapter 4, Verse 8

परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम्।
धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे युगे ॥8॥

परित्रणाय-रक्षा के लिए; साधूनाम्-भक्तों का; विनाशाय-संहार के लिए; च-और; दुष्कृताम्-दुष्टों के; धर्म-शाश्वत धर्म; संस्थापन-अर्थाय-पुनः मर्यादा स्थापित करने के लिए; सम्भवामि-प्रकट होता हूँ; युगे युग; युगे–प्रत्येक युग में।

Translation

BG 4.8: भक्तों का उद्धार और दुष्टों का विनाश करने और धर्म की मर्यादा पुनः स्थापित करने के लिए मैं प्रत्येक युग में प्रकट होता हूँ।

Commentary

पिछले श्लोक में यह कहने के पश्चात कि भगवान संसार में अवतार लेते हैं अब श्रीकृष्ण भगवान के अवतार रूप में प्रकट होने के तीन कारणों की व्याख्या कर रहे हैं-(1) दुष्टों के विनाश के लिए, (2) भक्तों के उद्धार के लिए, (3) धर्म की स्थापना के लिए। फिर भी यदि हम इन तीनों बिन्दुओं का गहन अध्ययन करते हैं तब भी तीनों कारणों में से कोई भी अधिक विश्वसनीय प्रतीत नहीं होता। 

1) भक्तों के उद्धार के लिए: भगवान अपने भक्तों के हृदय में वास करते हैं और उनके भीतर रहकर सदैव उनकी रक्षा करते हैं। इस प्रयोजन हेतु भगवान को अवतार लेने की आवश्यकता नहीं होती। 

2) दुष्टों के विनाश हेतुः भगवान सर्वशक्तिमान हैं और केवल अपने संकल्प से उन्हें मार सकते हैं। इसलिए ऐसा करने के लिए उन्हें अवतार के रूप में प्रकट होने की क्या आवश्यकता है? 

3) धर्म की स्थापना के लिए: वेदों में नित्य धर्म का वर्णन किया गया है। भगवान अपने संत के माध्यम से इसकी पुनः स्थापना कर सकते हैं। अतः इस कार्य को सम्पन्न करने के लिए अवतार के रूप में प्रकट होना आवश्यक नहीं है। 

ऐसे में फिर उपर्युक्त श्लोक में वर्णित कारणों के अभिप्राय को हम कैसे समझ सकते हैं? श्रीकृष्ण के कथनों के आशय ग्रहण करने के लिए हमें गहनता से विचार करना होगा। आत्मा का भगवान की भक्ति में तल्लीन होना ही सबसे बड़ा धर्म है इसलिए भगवान अवतार लेकर इसको शक्ति प्रदान करते हैं। जब भगवान पृथ्वी पर अवतरित होते हैं तब वह अपने दिव्य रूप, नाम, गुण, लीला, धाम और संतो के साथ प्रकट होते हैं जिससे आत्मा को भगवान की भक्ति में लीन होने का सरल आधार प्राप्त होता है। क्योंकि मन को अपना ध्यान स्थिर रखने और संपर्क स्थापित करने के लिए किसी रूप का आश्रय लेने की आवश्यकता पड़ती है इसलिए भगवान के निराकार रूपों की उपासना कठिन होती है। अन्य शब्दों में साकार भगवान की भक्ति को समझना, करना और उसमें तल्लीन होना रुचिकर होता है। 

इस प्रकार 5000 वर्ष पूर्व श्रीकृष्ण के अवतार से अब तक करोड़ों आत्माओं ने अपनी भक्ति के आधार पर उनकी लीलाओं का प्रदर्शन करते हुए सहजता तथा आनन्द के साथ अपने मन को शुद्ध किया। इसी प्रकार से रामायण ने अनन्त सदियों से जीवात्मा को भक्ति का सुखद आधार प्रदान किया है। जब भारत में दूरदर्शन पर सर्वप्रथम रामायण श्रृंखला का प्रसारण प्रत्येक रविवार को प्रात:काल में आरम्भ हुआ था तब उस टी. वी. प्रसारण को देखने के लिए पूरे देश के सभी गली मुहल्ले खाली हो जाते थे। भगवान राम की लीलाओं ने लोगों को ऐसा मंत्रमुग्ध किया कि वे भगवान की लीलाओं को देखने के लिए अपने टी. वी की स्क्रीन से चिपके रहते थे जिससे यह ज्ञात होता है कि इतिहास में भगवान राम के अवतार ने अनन्त जीवात्माओं को भक्ति का आधार प्रदान किया। रामचरितमानस में इस प्रकार से वर्णन किया गया है

राम एक तापस तिय तारी।

नाम कोटि खल कुमति सुधारी।। 

"अपने अवतार काल में राम ने अहिल्या गौतम ऋषि की पत्नी जिसे राम ने स्पर्श कर पत्थर के शरीर से मुक्ति प्रदान की थी।" इस प्रकार तब से दिव्य 'राम' के नाम की महिमा का गान करते हुए अनेक पतित आत्माएँ पवित्र और उन्नत हो गयीं। इस श्लोक का गूढ ज्ञान इस प्रकार से है-

धर्म की स्थापनाः भगवान अवतार लेकर जीवात्माओं को अपना नाम, रूप, लीला, गुण, धाम और संतों का संग प्रदान कर धर्म की स्थापना करते हैं जिससे वे भक्ति में लीन होकर अपने अन्तःकरण को पवित्र करती हैं।

 दुष्टों का संहार करनाः भगवान की दिव्य लीलाओं को सुसाध्य बनाने के लिए कुछ जीवन मुक्त संत भी उनके साथ अवतार लेकर आते हैं और वे खलनायक का अभिनय करते हैं। उदाहरणार्थ रावण और कुंभकरण जय और विजय थे जो भगवान के दिव्य धाम से अवतार लेकर प्रकट हुए थे। उन्होंने राक्षस का अभिनय किया और भगवान राम से शत्रुता कर उनसे युद्ध किया। वे किसी के द्वारा भी मारे नहीं जा सकते थे क्योंकि वे दिव्य पुरुष थे। इसलिए भगवान ने अपनी लीला के प्रदर्शन हेतु ऐसे राक्षसों का वध किया और उन्हें मारने के पश्चात भगवान श्रीराम ने उन्हे अपने उसी दिव्य धाम में पहुँचा दिया जहाँ से वे पहले आए थे। 

भक्तों के उद्धार के लिए: अनेक जीवात्माएँ भगवान से प्रत्यक्ष साक्षात्कार करने की पात्रता प्राप्त करने के लिए अपनी साधना भक्ति में अत्यंत उन्नत हो चुकी थीं। जब श्रीकृष्ण संसार में अवतरित हुए तब इन सिद्ध आत्माओं को भगवान की लीलाओं में भाग लेने का प्रथम बार